*ईश्वर की कुदरत का एक अंदाज़ निराला देखा,,*
*आज पंछी खुले आसमान में उड़े , और घरों में कैद जमाऩा देखा,,,।*
🙏Good Morning🙏🏻

Create a poster for this message
Visits: 273
Download Our Android App