घोंसले से प्यार था पर मुड़ के न देखा कभी
या अलग ये दौर है या ये परिंदा और है।

Create a poster for this message
Visits: 262
Download Our Android App