सुखी पत्तो की तरह बिखरी हुई थी मेरी ज़िन्दगी
किसी ने समेटा भी तो सिर्फ जलiने के लिए. 💔💔(♣♠)

Create a poster for this message
Visits: 204
Download Our Android App