ना हुआ हमसूस बेइंतिहा मोहब्बत जिसे सांसो की महक से
क्या समझेगा वो हाल-ए-दिल एक गुलाब देने भर से

Create a poster for this message
Visits: 206
Download Our Android App