"चेहरा देख कर इंसान पहचानने की कला थी मुझमें......
तकलीफ तो तब हुई जब इंसानों के पास चेहरे बहुत थे"…......✍️✍️

Create a poster for this message
Visits: 334
Download Our Android App