ना चांद अपना था और ना तू अपना था काश दिल भी मान लेता कि सब सपना था

Create a poster for this message
Visits: 172
Download Our Android App