रहने दे मुझे इन अंधेरो में ग़ालिब
कमबख़्त रौशनी में अपनो के असली चेहरे सामने आ जाते हैं

Create a poster for this message
Visits: 191
Download Our Android App