कितनी अजीब है नेकियों की जुस्तजु
नामज़ भी जल्दी में पढ़ते हैं फिर से गुनाह करने के लिए

Create a poster for this message
Visits: 182
Download Our Android App