सुबह की ख्वाहिशें ... शाम तक टाली हैं ...
कुछ इस तरह हमने जिंदगी संभाली है ...

Create a poster for this message
Visits: 167
Download Our Android App