इश्क है या इबादत

अब कुछ समझ नहीं आता, एक खुबसूरत ख्याल हो तुम जो दिल से नहीं जाता

Create a poster for this message
Visits: 156
Download Our Android App