मन तुलसी का दास हैं, वृन्दावन हो धाम, साँस-साँस में राधा बसे, रोम-रोम में श्याम ।

Create a poster for this message
Visits: 184
Download Our Android App