मत पूछ ऐ चांद हमसे यूँ सारी रात जागने की बजह…
तेरी ही हमशक्ल है वो जो हमें सोने नहीं देती… i

Create a poster for this message
Visits: 357
Download Our Android App