कोशिश बहुत थी कि, राज -ए- मोहब्बत बयान न हो. पर मुमकिन कहाँ था, कि आग लगे और धुआँ न हो.

Create a poster for this message
Visits: 226
Download Our Android App