“पलकों मे कैद कुछ सपनें है, कुछ अपने है, और कुछ बेगाने है,
नजाने क्या कशिश है, इन ख़्यालों मे कुछ लोग दूर् होकर भी कितने अपने है ।”

Create a poster for this message
Visits: 188
Download Our Android App