“रात के पहलु में तेरी याद क्यू है, तू नहीं तो तेरा एह्सास क्यू है,
मैने तो बस तेरी ख़ुशी चाही थी ऐ जान पर तू आज तक इतने ”दूर” क्यू हे ।

Create a poster for this message
Visits: 162
Download Our Android App