माना की तेरे प्यार का मालिक नहीं हूँ मैं.
पर किरायेदार का भी कुछ हक़ तो बनता

Create a poster for this message
Visits: 341
Download Our Android App