क्यूँ फीकी पड़ गई है रातों की रौशनी।..
ऐ मेरे चाँद तू मुझसे कहीं ख़फा तो नहीं आजकल.

Create a poster for this message
Visits: 214
Download Our Android App